Suryabhedan Pranayam In Hindi-सूर्यभेदन प्राणायाम क्या है

आज हम सूयभेदन प्राणायाम के बारे में जानेंगे। कि (What is Suryabhedan Pranayam) सूर्यभेदन प्राणायाम क्या होता है। इसे करने से हमे क्या – क्या फायदा होता है। इनको करने से हमे कौन – कौन सी बीमारियों से छुटकारा मिलता है। और इसको करते समय हमे किन – किन सावधानियों का ध्यान रखना चाहिए। Benefits of suryabhedan Pranayam in Hindi.

Suryabhedan Pranayam In Hindi
image by honeyfurforher.com

सूर्यभेदन प्राणायाम क्या है-Suryabhedan Pranayam In Hindi

सूर्यभेदन प्राणायाम दो शब्दों से मिलकर बना है- सूर्य + भेदन। जिसमे सूर्य का अर्थ है, सूरज और भेदन का अर्थ है, आर – पार होना।

इस प्राणायाम को करने से शरीर में बहुत अधिक लाभ मिलता है। सूर्यभेदन प्राणायाम में दाहिनी नाक से श्वास लेते है। और बायीं नाक से श्वास को छोड़ते है। श्वास लेने की सभी प्रक्रिया में प्राण ऊर्जा सूर्यनाड़ी के माध्यम से जाती है। यह श्वास का प्रवाह नियंत्रित करता है।

प्राणायाम के फायदे,अर्थ व विधि और प्राणायाम करने का सही क्रम

सूर्यभेदन प्राणायाम की विधि

  • सबसे पहले आप पद्मासन में बैठ जाएं।
  • अब दाये हाथ की तर्जनी तथा बीच वाली ऊँगली को भूमध्य में रखकर अनामिका उंगली से बायीं नाक को बंद करें।
  • अब जल्दी से दायी नाक से लम्बी सांस अंदर ले।
  • और अंगूठे से दायी नाक को बंद कर दें।
  • अब आंतरिक कुंभक करें यानि सांस को अंदर ही रोके।
  • इस तरह तीनों बंद लगाएं।
  • पहले उड्डियान, जालंधर और मूलबंद खोले।
  • अब अपनी दायी नाक से सांस बहार निकले।
  • इस प्राणायाम को करते समय अपना ध्यान नाभि पर रखे।
  • इस क्रिया को तीन – चार बार दोहराएं।

सूर्यभेदन प्राणायाम के लाभ

  1. शरीर में ताप का विकास होता है।
  2. इससे मन शांत होता है।
  3. चर्म रोग दूर होता है।
  4. शरीर स्वस्थ रहता है।
  5. श्वास संबंधी समस्या ठीक होती है।
  6. रक्त का शुद्दिकरण होता है।
  7. उच्च रक्तचाप में सहायक है।
  8. प्यास कम लगती है।
  9. ह्दय रोग ठीक होता है।
  10. चेहरे की सुंदरता बढ़ती है।
  11. इससे अच्छी नींद आती है।
  12. भूख अच्छी लगती है।
  13. शरीर में चुस्ती आती है।
  14. सिर दर्द ठीक रहता है।
  15. आँखों की रोशनी बढ़ती है।
  16. आलस्य दूर होता है।
  17. एकाग्रता बढ़ती है।
  18. क्रोध नहीं आता है।
  19. पेट की बीमारियाँ ठीक होती है।
  20. व्यक्ति जवान और शक्तिशाली दिखता है।These all are Benefits of suryabhedan Pranayam in Hindi.

सूर्यभेदन प्राणायाम की सावधनियां

  • उच्च रक्तचाप वाले व्यक्ति को यह प्राणायाम नहीं करना चाहिए।
  • प्राणायाम करने वाला स्थान साफ – सुथरा होना चाहिए।
  • आस – पास, शोर – शराबा नहीं होना चाहिए।
  • सूर्यभेदन प्राणायाम करने से पहले एक बार अनुभवी व्यक्ति से सलाह जरूर ले।
  • जिन लोगों को गुस्सा यानि क्रोध बहुत ज्यादा आता है उनको यह प्राणायाम नहीं करना चाहिए।

आपको यह भी जानना चाहिए

  1. अष्टांग योग किसे कहते हैं
  2. शीर्षासन के फायदे विधि तथा इसके नुकसान
  3. पतला होने के लिए कौन सा योग करना चाहिए
  4. धनुरासन के फायदे,विधि व इसकी सावधानियां
  5. प्राणायाम के फायदे,अर्थ व विधि और प्राणायाम करने का सही क्रम

Leave a Comment