SARS Full Form In Hindi-एसएआरएस फुल फॉर्म इन हिंदी

SARS Full Form In Hindi-SEVERE ACUTE RESPIRATORY SYNDROME.सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम अथवा सार्स, यह एक वायरस हें

SARS क्या हें

SARS-सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम अथवा सार्स,यह तेजी से फैलने वाला घातक संक्रामक रोग है यह मनुष्य के संपर्क में आने से होता है SARS इसका दूसरा नाम सार्स  कोरोनावायरस और यह रोग सांस की बीमारी से संबंधित रोग है

SARS मार्च 2003 में सरकार ने इस वायरस को खतरे का नाम दे दिया SARS (सार्स) सबसे पहली बार नवंबर 2000 में चीन में इसके लक्षण दिखाई दिए  इसके बाद यह वायरस  उत्तरी अमेरिका और दक्षिण अमेरिका के 24 से भी अधिक देशों में फैल गया 2004 के बाद सार्स  का कोई नया मामला सामने नहीं आया इस कारण इसका प्रभाव अपेक्षाकृत बहुत कम हो गया |

दिसंबर 2003 में चीन के चिकित्सकों ने सार्स  के कुछ नए मामलों की सूचना दी और इन्हीं के लक्षणों की लोगों के पास जानकारी भेजने की कोशिश की जिससे लोग जागरूक हो सके तथा इस बीमारी के प्रकोप से बच सकें इस प्रकार चीन में इस बीमारी के प्रकोप को  कुछ हद तक खत्म कर दिया गया |

SARS फुल फॉर्म इन हिंदी

SARS Full Form In Hindi-SEVERE ACUTE RESPIRATORY SYNDROME.सिवियर एक्यूट रेस्पिरेटरी सिंड्रोम अथवा सार्स हिंदी में इसको सार्स कहते हें

SARS का कारण क्या है

SARS यह कोरोनावायरस से जुड़ा है जिसका का सबसे बड़ा कारण SARS-CoV माना जाता है आमतौर पर यह वायरस मनुष्य के ऊपरी श्वसन के माध्यम से बीमारी का कारण बनता है यह भारत जानवरों को भी प्रभावित करता है यह जानवरों के तंत्रिका ,यकृत ,शोधन ,जटरात्र ,आदि को अनेक रूप से प्रभावित करता है

SARS Full Form In Hindi-सार्स मीनिंग इन हिंदी

2003 में चिकित्सकों ने सार्स के प्रभाव को रोकने के लिए बहुत तेजी दिखाई उन्होंने सार्स-सीओवी के बारे में बहुत ज्यादा जानकारी प्राप्त करने की कोशिश की कई लोगों का मानना है कि SARS-CoV बीमारी पहले जानवरों में उत्पत्ति हुई और उसके बाद यह बीमारी जानवरों से मनुष्यों में आई संक्रमण  के संपर्क में आने से वायरस की अवधि 2 से 7 दिन हो जाती है हालांकि कुछ मामलों में संक्रमण 10 दिन तक का समय लगाता है हालांकि बीमारी के संपर्क में आने  वाला हर व्यक्ति बीमार नहीं होता |

SARS  के लक्षण क्या है

बच्चों में इस बीमारी को पहचानना बहुत कठिन होता है क्योंकि यह इन्फ्लूएंजा जैसे अन्य श्वास रोगों की नकल करता है यह समानता 100 .4 डिग्री सेल्सियस से अधिक बुखार से शुरू होता है और इसके अलावा निम्न लक्षणों में से एक या अधिक हो सकता है

  1. सिर दर्द
  2. बुखार
  3. बेचैनी का अनुभव करना 
  4. शरीर में दर्द 
  5. ठंड लगना
  6. गला खराब होना 
  7. खांसी
  8. निमोनिया 
  9. सांस लेने में दिक्कत 
  10. अतिसार 
  11. सांस में कमी 
  12. रक्त में ऑक्सीजन की कमी होना

SARS सार्स  से  संक्रमित व्यक्ति को पहचानने के लिए वर्तमान में कोई टेस्ट नहीं है सार्स  के लक्षण अन्य बीमारियों की तरह ही लगते हैं  तथा  इसके निदान  के लिए अपने बच्चों को डॉक्टरों के परामर्श में रखें|

SARS सार्स कैसे फैलता है?

SARS-CoV मुख्य रूप से SARS से संक्रमित किसी व्यक्ति के निकट संपर्क मैं आने से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है जब सार्स  से पीड़ित कोई व्यक्ति या बीमार आदमी कहां सताया चिंता है तो इसके जीवाणु सांस के माध्यम से वायु में भूल जाते हैं और किसी अन्य  व्यक्ति  कि   श्लेष्मा झिल्ली को प्रभावित करते हैं

वायरस तब भी पड़ सकता है जब कोई बच्चा संक्रामक व्यक्ति या उसकी वस्तु को छूता है और फिर इसके बाद अपने मुंह मियां आंख नाक को छोटा है तब उसको यह वायरस प्रभावित करता है  हवा में ऑक्सीजन के माध्यम से यह  वायरस अधिक प्रभावित होता है

SARS सार्स  को कैसे  रोके

वर्तमान में सार्स  वायरस को रोकने के लिए कोई भी फीका या दवाई उपलब्ध नहीं है सार्स  को रोकने के लिए आपको निम्नलिखित कदम उठाने चाहिए

  • अपने हाथ नियमित रूप से धोने चाहिए
  • बीमार व्यक्ति के संपर्क में नहीं आना चाहिए
  • अपने हाथ समय-समय पर सैनिटाइजर रखनी चाहिए
  • बीमार व्यक्ति से दूर रहने की कोशिश करें]
  • अपनी आंख नाक और मुंह को कपड़े से ढक कर रखें
  • खांसते समय अपने मुंह को हाथों से रखने की बजाय किसी टिशू पेपर से रखें

2003   मै सार्स  को रोकने के लिए सरकार द्वारा बहुत प्रयास किए गए हैं जिस कारण इस वायरस को 50% तक ही काम किया गया है इस वायरस का आक्रमण चीन और हांगकांग  पर अधिक है चीन में इस वायरस से लगभग 380 मौतें हो चुकी हैं और हांगकांग में 299  |

आपको यह भी पढ़ना चाहिए:

1 thought on “SARS Full Form In Hindi-एसएआरएस फुल फॉर्म इन हिंदी”

Leave a Comment