मैंक्यूलर डीजेनेरेशन-Macular Degeneration Meaning In Hindi

मैंक्यूलर डीजेनेरेशन एक गंभीर बीमारी है जिसके बारे में आप को जानना जरूरी है जटिल आंख के बारे में कुछ बातें आपको जानने आवश्यकता हैं जिसके कारण आप अपनी आंख के केंद्र की दृष्टि को नुकसान होने से बचा सकते हैं |

मैक्युलर डीजेनेरेशन-Macular Degeneration Meaning In Hindi

मैक्यूलर डीजेनेरेशन के कारण आपको अपने जीवन में बहुत सी आंख की बीमारियों का सामना करना पड़ता है जैसे जैसे हम बड़े होते हैं वैसे वैसे हमारी दृष्टि बदलती रहती है चाहे अचानक पढ़ने वाले चश्मे की आवश्यकता यह प्रकाश और चकाचौंध वाले चश्मे की आवश्यकता और जैसे जैसे आपकी उम्र बढ़ती है वैसे वैसे आपकी आंखों को मोतियाबिंद मधुमेह ,नेत्र रोग, कम दृष्टि और ग्लूकोमा कई बीमारियों का सामना करना पड़ता हें|

मैक्युलर डीजेनेरेशन क्या है?

मैक्यूलर डीजेनेरेशन को हिंदी में धब्बेदार अधमता अधोगति कहा जाता है मैक्यूलर डीजेनेरेशन दृष्टि हानि का प्रमुख कारण है जो भारत में लगभग 10 करोड लोगों को प्रभावित कर चुका है जिनमें से 50% लोगों को मोतियाबिंद और ग्लूकोज अधिक प्रभावित कर चुका है

वर्तमान में मैक्यूलर डीजेनेरेशन को एक लाइलाज नेत्र रोग माना जाता है|

यह रोग रेटिना के मध्य भाग के बिगड़ने के कारण होता है वह छवि जो हमारी आंखों के द्वारा रिकॉर्ड किया जाता है उसे आंख मस्तिष्क तक ऑप्टिक तंत्रिका के माध्यम से भेजती है रेटिना का केंद्रीय भाग जिसे मैंक्यूला कहा जाता है वह आंख में केंद्रित दृष्टि को केंद्रित करने में हमारी सहायता करता है और यह हमें रंगों की पहचान करने में वह वस्तुओं को बारीक से देखने में सहायक है

मैक्यूलर डीजेनेरेशन के लक्षण

मैक्यूलर डीजेनेरेशन के लक्षण धीरे-धीरे प्रकट होते हैं और यह भिन्न भिन्न हो सकते हैं इनमें शामिल है दृश्य विकृतियां एक या दोनों आंखों की केंद्रित दृष्टि में कमी, पढ़ने के दौरान तेज रोशनी की आवश्यकता’ प्रकाश का निम्न स्तर, पढ़ते समय धुंधलापन दिखाई देना, चेहरे को पहचानने में कटनाई|

यदि आप नोटिस करते हैं कि आपकी केंद्रीय दृष्टि बंद है यह आपको रंगों और वस्तुओं को पहचानने में परेशानी हो रही है खासकर यदि आप की उम्र 50 से अधिक है तो आपको यह पता लगाने के लिए अपने डॉक्टर से जांच करवानी चाहिए कि क्या आपको शुरुआती लक्षण दिखाई दे रहे हैं

इसके लक्षण समानता दो प्रकार के हैं|

मैक्यूलर डीजेनेरेशन( शुष्क धब्बेदार अध: पतन) के लक्षणों में शामिल हैं

  • केंद्रित दृष्टि में कमी
  • सीधी रेखाओं का ना मिल पाना
  • धुंधलापन दिखाई देना
  • तेज रोशनी की जरूरत पढ़नाकम रोशनी होने पर देखने में कठिनाई का सामना करना
  • चेहरे को पहचानने में कठिनाई
  • रेटिना का खराब होना

गीले धब्बेदार अध: पतन के कुछ लक्षण इस प्रकार हैं

यदि आपको गीले धब्बेदार अध: पतन है तो आप क्या महसूस कर सकते हैं

  • आपकी दृष्टि के क्षेत्र में एक धुंधला स्थान
  • रक्त वाहिकाओं के कारण आपकी दृष्टि में एक काला धब्बा
  • धुंधली दृष्टि
  • तेजी से बिगड़ने वाले लक्षण

गीले धब्बेदार अध: पतन, शुष्क धब्बेदार अध: पतन की तुलना में अधिक तेजी से बढ़ता है

उम्र से संबंधित मैंक्यूलर डीजेनेरेशन क्या है

यह एक नेत्र रोग है जो कि उम्र से संबंधित मैंक्यूला के बिगड़ने के कारण होता है जो की आंख के पिछले हिस्से मे रेटीना के केंद्र मैं एक छोटा सा क्षेत्र होता है जैसे जैसे आप बड़े होते हैं तो यह रोग आपको होने की संभावना को दर्शाता है इसे अक्सर उम्र से संबंधित धब्बेदार अध: पतन कहा जाता है यह आमतौर पर अंधेपन का कारण नहीं बनता लेकिन गंभीर दृष्टि संभावनाओं का कारण हो सकता है

मैक्यूलर डीजेनेरेशन (धब्बेदार अध: पतन) दो प्रकार के होते हैं

1 सूखा

2 गीला

सुखा- यह मेकयूला के तरफ विकसित होने वाले छोटे ड्रसन जमा होने के कारण होता है कुछ छोटे ड्रसन आपकी दृष्टि में परिवर्तन का कारण नहीं बन सकते हैं लेकिन जैसे-जैसे यह बड़े और अधिक संख्या में होते जाते हैं तो वे आपकी दृष्टि को कम कर सकते हैं खासकर जब आप पढ़ते हैं प्रकाश के प्रति संवेदनशील पतली कोशिकाएं होती है जैसे ही वह खराब होती है वैसे ही आपकी दृष्टि खत्म होने लग जाती है

गीला रूप- रक्त वाहिकाएं आपके मैकुला के नीचे से गुजरती है यह रक्त वाहिकाएं आपके रेटिना में रक्त और तरल पदार्थ का रिसाव करती है आपकी दृष्टि विकृत हो जाने पर आपकी सीधी रेखाएं लहरदार दिखाई देती है जिस कारण आपको केंद्रीय दृष्टि हानि भी हो सकती है यह रक्त वाहिकाओं और अनेक रक्त संचार में एक निशान बनाती है जिससे केंद्रीय दृष्टि को स्थाई नुकसान होता है

अंतिम शब्दों में

यदि आपको मैंक्यूलर डीजेनेरेशन है तो आपको अपनी दृष्टि की सावधानीपूर्वक निगरानी रखनी चाहिए और नियमित रूप से नेत्र चिकित्सक को दिखाना चाहिए|

Leave a Comment