भद्रासन के फायदे,विधि और सावधानियां

भद्रासन भद्र शब्द का अर्थ होता है दृढ़ या सज्जन| यह आसन ध्यान लगाने के लिए बहुत अच्छा आसन हैं भद्रासन को अंग्रेजी में ग्रेसिआस पॉज कहते हैं

भद्रासन के फायदे,विधि और सावधानियां

शारीरिक स्थिति

इस आसन में आप दोनों पैर खींचे हुए दिखाई देते हैं वह दोनों हाथ पैरों से पकड़े हुए इस आसन का प्रयोग लंबे समय तक ध्यान लगाने के लिए किया जाता है इस आसन से शरीर के अंगों को मजबूती प्राप्त होती हैंं

भद्रासन की विधि

  • दोनों पैरों को सामने सीधे कर के व कमर को सीधी कर कर बैठ जाएं|
  • इसके बाद दोनों पैरों के तलवे पास पास ले आए|
  • श्वास बाहर छोड़ते हुए पैरों की उंगलियों को हाथों से पकड़कर ढक दें|
  • श्वास छोड़ते हुए एड़ियों को जितना मिला सके उतना मिलाएं|
  • इसके दौरान आपके घुटने जमीन पर स्पर्श हो|
  • अब इस अवस्था में 10 से 20 सेकंड रुके तथा सामान्य रूप में वापस आ जाएं|
  • इस आसन को प्राय हर दिन दो या तीन बार जरूर करें|

भद्रासन के फायदे

  1. भद्रासन करने से कमर के दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है|
  2. इस आसन से मन को शांति प्राप्त होती है|
  3. भद्रासन शरीर को सुंदर बनाने में सहायता करता है|
  4. यह हड्डियों और मांसपेशियों को मजबूत बनाता है|
  5. इस आसन से पैरों की मजबूती बनी रहती है|
  6. शासन के दौरान आपके फेफड़ों में सुधार सीजन पहुंचती है|
  7. स्नायु तंत्र को मजबूत बनाने में सहायता करता है|
  8. इसके अलावा यह सिरदर्द अनिद्रा बावसी उल्टी इसकी आदि रोगों के लिए भी लाभकारी है|

भद्रासन की सावधानियां

  • रीड की हड्डी में दर्द होने के दौरान इस आसन को ना करें|
  • साइटिका से ग्रस्त मरीज इस आसन को ना करें|
  • कमर में दर्द होने या चक्कर आने पर इस आसन को ही समाप्त कर दें|
  • घुटनों के दर्द के मरीज इस आसन से दुुर रहे|
  • आर्थराइटिस के मरीज इस आसन से दूर रहे|

आपको यह भी जानना चाहिए

  1. ताड़ासन करने की विधि,इसके लाभ व सावधानियां
  2. वृक्षासन करने की विधि,इसके लाभ व सावधानियां
  3. अष्टांग योग किसे कहते हैं व इसके 8 प्रकार
  4. वज्रासन के फायदे, विधि अर्थ और सावधानियां

Leave a Comment